आप हमसे इस प्रकार से जुड़ सकते हैं -

1 हमारी पोर्टल पर अपना पंजीकरण करें -
2 वैदिकधर्म को जानने हेतु प्रस्तुत सामग्री का प्रयोग करें
3 धर्म को अपने जीवन में धारण करें।

किसी भी प्रश्न/जानकारी हेतु इस ईमेल info@manurbhav.com पर अपनी बात रखें - धन्यवाद!

ब्रह्मयज्ञ वैदिक सन्ध्या

दैनिक नित्य कर्म

आओ सन्ध्या करना सीखें

आध्यात्मिक उन्नति का मूल है सन्ध्या

ब्रह्मयज्ञ वैदिक सन्ध्या

दैनिक नित्य कर्म

आओ सन्ध्या करना सीखें

सन्ध्या आध्यात्मिक उन्नति का मूल है

PREV
NEXT

ब्रह्मयज्ञ (सन्ध्या-उपासना) विधि

हमें सन्ध्या के मन्त्रों को शुद्ध उच्चारण एवं अर्थ सहित कंठस्थ करना चाहिए।

आजका वेद मन्त्र

अग्न आ याहि वीतये गृणानो हव्यदातये । नि होता सत्सि बर्हिषि ॥१॥

हे (अग्ने) सर्वाग्रणी, सर्वज्ञ, सर्वव्यापक, सर्वसुखप्रापक, सर्वप्रकाशमय, सर्वप्रकाशक परमात्मन् ! आप (गृणानः) कर्तव्यों का उपदेश करते हुए (वीतये) हमारी प्रगति के लिए, हमारे विचारों और कर्मों में व्याप्त होने के लिए, हमारे हृदयों में सद्गुणों को उत्पन्न करने के लिए, हमसे स्नेह करने के लिए, हमारे अन्दर उत्पन्न काम-क्रोध आदि को बाहर फेंकने के लिए और (हव्य-दातये) देय पदार्थ श्रेष्ठ बुद्धि, श्रेष्ठ कर्म, श्रेष्ठ धर्म, श्रेष्ठ धन आदि के दान के लिए (आ याहि) आइए। (होता) शक्ति आदि के दाता एवं दुर्बलता आदि के हर्ता होकर (बर्हिषि) हृदयरूप अन्तरिक्ष में (नि सत्सि) बैठिए ॥

वेद ईश्वरीय ज्ञान है, और सभी मनुष्यों के कल्याण के लिए है। वेद-स्वाध्याय प्रतिदिन करना चाहिए।

  • वेदश्चक्षुः सनातनम्।

    साधारण मनुष्यों का शाश्वत नेत्र वेद है। (मनुस्मृति)

  • सर्वं वेदात् प्रसिद्ध्यति।

    संसार के पदार्थों का सम्पूर्ण ज्ञान वेद से ही प्रसिद्ध होता है। (मनुस्मृति)

वेद को जानें
Manurbhav
Manurbhav
Manurbhav

ईश्वर का वैदिक स्वरुप

ईश्वर क्या है? और कैसा है? आदि जैसी जिज्ञासाओं का सैद्धान्तिक विश्लेषण जिससे हमारे मन में उठने वाली बहुत सी शंकाओं का समाधान हो जाये गा। ईश्वर साकार है या निराकार? इस विषय पर भी वैदिक विचार जानें।

ईश्वर अगर निराकार है, तो निराकार का अर्थ क्या है? निराकार परमात्मा की उपासना करने से हमारे जीवन में क्या परिवर्तन आता है?

अर्थात् निराकार और साकार उपासना करने वालों के जीवन में क्या भेद मिलता है? सिद्धान्त को मानना और उसको व्यवहार में लाना कितना आवश्यक है?

Manurbhav

SIGN IN YOUR ACCOUNT TO HAVE ACCESS TO DIFFERENT FEATURES

CREATE ACCOUNT

FORGOT YOUR DETAILS?

TOP